शिवराज प्रधान (UBI सावन की पुकार प्रतियोगिता | सहभागिता प्रमाण पत्र)

शिवराज प्रधान (UBI सावन की पुकार प्रतियोगिता | सहभागिता प्रमाण पत्र)

390
3
image

शिवराज प्रधान

सावन की पुकार।

बिजली कड़के

आकाश गरजे

साथ,हवा बहके

घटायें तड़पे ।

 

रिमझिम सरगम

झंकृत तन मन

आंगन छमछम

मोहक नर्तन।

 

नदियां बेगवान

बाढोंकी उफान

आफतपे जान

न मिले त्राण।

 

खूदके  साथ

खिडकी के पास

यादोंके आलाप

गूंजे आसपास !

 

अरसों के बाद

श्रावण के साथ

भुली हूयी बात

आये यूं याद  !

 

कैसी तड़पन ? 

पीड़ा बन बन

रुलाये मन

युँ ढूंढे हमदम !

 

 

Leave a Comment

Your email address will not be published.

You may use these HTML tags and attributes:

<a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

×

Hello!

Click on our representatives below to chat on WhatsApp or send us an email to ubi.unitedbyink@gmail.com

× How can I help you?