अनु साहनी ( जलती वसुंधरा प्रतियोगिता | सम्मान पत्र )

अनु साहनी ( जलती वसुंधरा प्रतियोगिता | सम्मान पत्र )

370
1
image

अनु साहनी

जिस धरती माँ की गोद में जन्मा,
क्यों भूल गया उसका सम्मान ,
वसुधा झुलस – झुलसकर बोले,
अब तो बस कर दे इंसान ।

चारों ओर मची हलचल है ,
जंगल में भीषण आग लगी है ,
प्रदूषित वायु , प्रदूषित जल है ,
समस्त वातावरण ही विषमय है ।

नैसर्गिकता और उरवर्ता को ,
नष्ट करता तूँ निष्ठुर बनकर,,
सृष्टि की अनुपम रचना को ,
विध्वंस करता तूँ कंटक बनकर।

औद्यौगिक क्रांति का देख दृश्य यह,
धरती माता करे आक्रंदन,
अनुभव कर इस धरा का स्पंदन ,
मर्यादा का न करो उल्लंघन।

देख निर्दयता मानव की ,
यह धरती माता रोती होगी ,
इस भीषण संहार की आखिर ,
कोई तो सीमा होगी।

गर मिट गया वजूद मेरा ,
तो अस्तित्व तेरा भी मिट जाएगा ,
ऐ मानव तेरी उच्छृखंलता से ,
यह चमन , ध्वस्त हो जाएगा ।

Leave a Comment

Your email address will not be published.

You may use these HTML tags and attributes:

<a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

×

Hello!

Click on our representatives below to chat on WhatsApp or send us an email to ubi.unitedbyink@gmail.com

× How can I help you?