Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages

शिबराज प्रधान (UBI जंगल की एक सुबह प्रतियोगिता | सहभागिता प्रमाण पत्र )

स्निग्ध,सुरम्य नन्दन बन
भोर बेला के द्रिश्य दर्पण
रुपसी, सुन्दरी, मनोरम
मोहिनी,माधुरी,अकिञ्चन।

सघन हरियालीके मादकता
सौन्दर्यताके कौमार्य छटा
चपल पल्लवीके अल्हड़ता
पुष्पिकाके मोहक चपलता !

मध्दिम बयारकी गीत गुंजन
कानोंमे मिसरी सा घूले क्षण
छूइमुई के ख्वाब कञ्चन
आलिंगनके अद्रिश्य बंधन !

पक्षियों के चहचहाते गीत
रागिनी छटा मे आप्लावित
नशीले सुर ताल करे मोहित
मन मोहे जैसे पियाके प्रीत !

सुष्मिता,शर्मिष्ठा शर्म मर्मरी
खूल जा समसम के जादूगरी
प्रक्रिति के गोदमे मायानगरी
जंगलके एक सूबह,नन्ही परी।

0
united ink

United By Ink

Leave a Reply

Your email address will not be published.

×

Hello!

Click on our representatives below to chat on WhatsApp or send us an email to ubi.unitedbyink@gmail.com

× How can I help you?