Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content

अभिलाषा ने करवट बदली

1
अभिलाषा ने करवट बदली,
ली है अंगड़ाई पीड़ा ने ।
नया राग फिर छेड़ा कोई,
मेरे मन की वीणा ने ।।
2
अस्ताचल में जाकर भानु ,
उतर गए जब सागर में ।
सिंधु सिमट आया तब ,
मेरे नयनों की गागर में ।
3
करुण बाँसुरी सी बजती है,
प्राणों के स्पंदन में ।
कौन विचरने आया है ये ,
मेरे मन के कानन मैं ।।
4
छंटता नहीं तिमिर कहना,
दिनमान से जाकर ।
सिर्फ यहाँ है देह ,
कहना प्राण से जाकर ।।
5
मेरे भी अवचेतन मन में,
पल हर पल है वास तेरा।
इतना सा बस रहे अनुग्रह,
टूटे ना विश्वास मेरा ।।

मौलिक
मंजु यादव ग्रामीण

0

One Comment on “अभिलाषा ने करवट बदली

Leave a Comment

Your email address will not be published.

You may use these HTML tags and attributes:

<a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

×

Hello!

Click on our representatives below to chat on WhatsApp or send us an email to ubi.unitedbyink@gmail.com

× How can I help you?