अनु साहनी ( समय प्रतियोगिता | युगान्तकारी रचना हेतू प्रशंसा पत्र )

अनु साहनी ( समय प्रतियोगिता | युगान्तकारी रचना हेतू प्रशंसा पत्र )

292
(No Ratings Yet)
Time
image

अनु साहनी

“समय”, तो गुज़रता है , गुज़रता ही चला जाएगा ,
अपनी ही रफ़्तार से, निरंतर यह बढ़ता जाएगा।

“समय” की दहलीज पर ,ठहरा हुआ है हर पल,
मानो मुट्ठी से रेत सा, यूँ ही फिसलता जाएगा ।

वह दौर ही कुछ और था ,यह दौर तो कुछ और है ,
बेफिक्र सा अपनी ही धुन में , यह वक्त चलता जाएगा।

रुक जा “समय”, कुछ कहूँ अपनी , कुछ सुनूँ तेरी,
पर हाथ से दामन छुड़ाकर , तूँ यूँही निकलता जाएगा ।

“समय” की फितरत तो इंसान ही के जैसी है ,
न रहता एक सा यह , सदा ही बदलता जाएगा।

हसरतें पाने के लिए ,”समय” से दौड़ तो लगाते हैं,
पर “कारवां ए ज़िंदगी” का, यह दौर न थम पाएगा ।

गुज़रा हुआ “समय” तो , फिर लौटकर न आएगा,
गर हौंसला हों बुलंद , तो गर्दिश- ऐ -वक्त भी बदल जाएगा।

“समय” की इस अविरल धारा में निरंतर बहती जा रही हूँ मैं,
मिट्टी का पुतला हूँ , ढलती जा रही हूँ मैं,
देखकर यह अविरल प्रवाह , सोचती हूँ अकसर,
या तो तैर जाऊँगी , या बह जाऊँगी मैं।

“समय” तो गुज़रता है , गुज़रता ही चला जाएगा,
अपनी ही रफ़्तार से निरंतर यह बढ़ता जाएगा।

Leave a Comment

Your email address will not be published.

You may use these HTML tags and attributes:

<a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

×

Hello!

Click on our representatives below to chat on WhatsApp or send us an email to ubi.unitedbyink@gmail.com

× How can I help you?