सीमा जैन (UBI जंगल की एक सुबह प्रतियोगिता | सहभागिता प्रमाण पत्र )

सीमा जैन (UBI जंगल की एक सुबह प्रतियोगिता | सहभागिता प्रमाण पत्र )

395
(No Ratings Yet)
image

सीमा जैन

“जंगल में जो मंगल कर दे ,वो सुबह चाहिए ,
चेहरे पर जो ख़ुशी लादे , वो परिंदो की चहक चाहिए ,
माया के मोह ने , ख़ुशियाँ जो समेट ली है ,
पत्तों पे गिरती वो , नायाव मोतियों की बूँद चाहिए ,
भागती- दौड़ती ज़िंदगी से , परेशान है इंसान सभी ,
टर्राते वो मेंढक , नाचते मोरों का शोर चाहिए ,
शहर बसे बच्चों के माँ-बापों की उम्मीदों को ,
पत्तों से झाँकते वो सूरज की किरणे चाहिए ,
खिलते गुलाब , कमलों का सरोवर चाहिए ,
कोयल की कूक सी सुबह की भोर चाहिए ,
शहर सज कर तैयार हो गये , वन की लकड़ियों से ,
वन सब वीराने हो गए , बिन पक्षी , वृक्षों से
समय रहते ना रोका यह वन कटाक्ष ……
ढूंढ़ते रह जाएगी पीढ़ियाँ , जंगल का वो सुहाना मंगल …………….”

Leave a Comment

Your email address will not be published.

You may use these HTML tags and attributes:

<a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

×

Hello!

Click on our representatives below to chat on WhatsApp or send us an email to ubi.unitedbyink@gmail.com

× How can I help you?