सीमा अग्रवाल जैन (सागर किनारे प्रतियोगिता | सहभागिता प्रमाण पत्र )

सीमा अग्रवाल जैन (सागर किनारे प्रतियोगिता | सहभागिता प्रमाण पत्र )

302
3
image

सीमा अग्रवाल जैन

समुद्र किनारे बैढ़ कर पूरे हुए मन में उठे कई सवाल ,
लहरों सा जीवन है अपना हर पल हिचकोले खाये ,
कभी उठे इतना ऊपर की गर्वित कर कर जाये ,
कभी गिरे इतना नीचे के सर उठ ही ना पायें ,
उठने , गिरने के इस तालमेल में संतुलन हमें बैठाना है ,
समुद्र के पानी जैसा हमें अपनी मौज में बहते जाना है ,
कभी डरो ना ज्वार -भाटे से , ये जीवन के ताने -वाने है,
कभी ख़ुशी है कभी है ग़म जो, दिन- रात से आने – जाने है ,
कभी करो ना घमंड अपने पर , मिलजुल आगे बड़ते जाना है ,
क्यूँकि समंदर में पानी अपार होता है , पर वो नदियों का उधार होता है ,
ज़िन्दगी की परेशानियों को समुद्र की रेत पर लिख डालिए ,
दो दिन की ज़िन्दगी है , प्रेम की लहरों से धो डालिए …………

Leave a Comment

Your email address will not be published.

You may use these HTML tags and attributes:

<a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

×

Hello!

Click on our representatives below to chat on WhatsApp or send us an email to ubi.unitedbyink@gmail.com

× How can I help you?