सजल मेहरा (UBI रूह का सफर प्रतियोगिता | सम्मान पत्र)

सजल मेहरा (UBI रूह का सफर प्रतियोगिता | सम्मान पत्र)

421
(No Ratings Yet)
image

सजल मेहरा

रूहें देखी हैं कभी ,
मिले हो कभी रूहों से ,
सोचा है कभी इनकी बातों में मुद्दा क्या होता है,
सब्जेक्ट क्या और प्रेडीकेट क्या होता है ?
मकान कैसे होते हैं इनके,
धुंआ तो उठता नहीं रसोई से इनकी ..
फिर खाना कैसे पकता है ,
इनके यहाँ भी डेमोक्रेसी होती है क्या ,
बाज़ार में मोल तोल करते हैं तो दाम कैसे चुकाते हैं ,
अगर दो रूहों में बगावत हो जाए तो खून किसका बहते हैं ?
इनकी उम्र भी तो सिमित होगी ..
फिर इनकी सेज़ कैसे सजती है ..मातम कैसे मनता है ,
कोई रूह अगर बीमार हो जाए तो हकीम रूह भी होती है क्या ?
क्या रूहें भी माँ बनती हैं ? किसी रूह को जनम देती हैं क्या ?
ये रूहें हम इंसानो से डरती हैं क्या ,
वहां भी सरहदें होती होंगी शायद ,
पर क्या इतनी गहरी जितनी हम इंसानो ने खींची है..

कई सवाल हैं ज़हन में , तुम्ही बता दो ..

रूहें देखी हैं तुमने ,
मिले हो कभी रूहों से ,
सोचा है इनकी बातों में मुद्दा क्या होता है ?

– मैहर

Leave a Comment

Your email address will not be published.

You may use these HTML tags and attributes:

<a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

×

Hello!

Click on our representatives below to chat on WhatsApp or send us an email to ubi.unitedbyink@gmail.com

× How can I help you?