शिवराज प्रधान(UBI अक्षय प्रतियोगिता | सम्मान पत्र)

शिवराज प्रधान(UBI अक्षय प्रतियोगिता | सम्मान पत्र)

381
(No Ratings Yet)

शिबराज प्रधान।

जीवनाञ्चल मे सजनी सुर सर्वोपरि अक्षय रहे ।
मानसिक वैभवताके भाव सञ्चयन अक्षय रहे.।

उबड खाबड़ जिन्दगी के ये लम्बी यात्रा मे
उतार चढ़ावकी झंझावत भरी कठिन राहोंमे।
सौ-सौ करगुजरियां झेलना पडे सर्वदा
फिर भी शूरता-शौर्यता अक्षय रहे सर्वदा।

दर बदर भटक भी जाये मञ्जिल से
दम पस्त हो,फिर भी अकेलेके भरोसे पे।
मस्त आगे कदम बढ़ाये ही चलते रहे
जेद्दोजेहादकी स्वर स्फूर्त व अक्षय रहे।

ऊँची लक्ष्यकी उड़ान व प्राप्तिकी चाहत
आदर्शमय जीवन धरोहरकी ठोस सत ।
महानताके जीवन शैली सर्वदा आप्लावित रहे
जीवन सर्गमे सर्वदा सौम्य स्वर
अक्षय रहे ।

खोज बरदानकी,तपस्या हो बढे कठिन
चुनौतियां राहों मे खढे मिले प्रतिदिन
निराशाकी घड़ियां,घटाटोप छायी रहे
फिर भी अन्तर आलोक सर्वदा प्रदीप्त रहे ।

Leave a Comment

Your email address will not be published.

You may use these HTML tags and attributes:

<a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

×

Hello!

Click on our representatives below to chat on WhatsApp or send us an email to ubi.unitedbyink@gmail.com

× How can I help you?