रीटा बधवार (UBI धरती माँ प्रतियोगिता | प्रशंसा पत्र (कविता ))

रीटा बधवार (UBI धरती माँ प्रतियोगिता | प्रशंसा पत्र (कविता ))

550
(No Ratings Yet)

“धरती माँ”
हिरण्यमयी,सुवर्णा,रत्नगर्भा,
न जाने कितने तेरे नाम
अनंत काल से तू करती आयी
लालन-पालन…प्यारी धरती माँ

खेल कूद कर बड़े हुए हम
तेरी माटी के ठाँव
कहाँ मिलेगी जग में हमको
ऐसी स्नेहिल ममता की छाँव

आओ ! प्रण लें हम
बारंबार करें प्रणाम नमन
नहीं कभी दुखने देंगे हम
“धरती माँ” का तन और मन
@reetatandonbadhwar

One Comment on “रीटा बधवार (UBI धरती माँ प्रतियोगिता | प्रशंसा पत्र (कविता ))

Leave a Comment

Your email address will not be published.

You may use these HTML tags and attributes:

<a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

×

Hello!

Click on our representatives below to chat on WhatsApp or send us an email to ubi.unitedbyink@gmail.com

× How can I help you?