Blog

रश्मि राठी। (विधा : कविता) (मेरा पहला प्यार | सम्मान पत्र)

80
(No Ratings Yet)
image

रश्मि राठी

उनसे नज़रें क्या मिली , जैसे प्यार की इजाज़त मिल गई ,

सुध-बुध खो बैठी , लगा, जन्नत मुझे मिल गई ।

पंख लग गए मानो मुझे , सपनों की दुनिया में खोती गई ,

हौले से जब उसने छूआ मुझे ,,

सिरहन सी बदन में दौड़ गई ‌।

मेरा पहला प्यार था वो , कब और कैसे हुआ पता नहीं ,

नहीं भूल पाएंगे , उसके साथ बिताए लम्हों की यादें ज़हन में बैठ गई ।

कितनी शिद्दत से जीता है प्यार में ये दिल ,

उस प्यार के लिए जीना मरना सीख गई ।

पहले प्यार का पहला तोहफा , बड़ा अच्छे से सहेज कर रखा है ,

अब तो बस उसकी यादें बाकी रह गई ।

प्यार की कीमत तो प्यार करने वाले ही जानते हैं ,

उसके साथ , उसके स्पर्श से जिंदगी बिल्कुल बदल गई।

खुशनसीब होते हैं जिन्हें पहले प्यार का साथ हमेशा के लिए मिल जाता है ,

जिन्हें नहीं मिला , उनकी दुनिया बदल गई।

स्वरचित

रश्मि राठी

Leave a Comment

Your email address will not be published.

You may use these HTML tags and attributes:

<a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

×

Hello!

Click on our representatives below to chat on WhatsApp or send us an email to ubi.unitedbyink@gmail.com

× How can I help you?