रमेश वधवा ( समय प्रतियोगिता | युगान्तकारी रचना हेतू प्रशंसा पत्र )

रमेश वधवा ( समय प्रतियोगिता | युगान्तकारी रचना हेतू प्रशंसा पत्र )

435
1
Time
image

रमेश वधवा

फ़कीरे की कलम से ,

“मैं” मेरा गुरूर और वक़्त

“मैं” के घोड़े पे सवार ,

ज़िद्द थी मेरी,
लिखूंगा हर पन्ना अपनी तकदीर का,

हंस दिया खुदा मेरे गुरुर पर ।

गर वक़्त तेरा है तो,
रोकले उसे दो पल के लिए,
ज़िंदगी को समझ वो तेरी है,
ढूंढ ले इसे दो पल में दो पल के लिए ।

न रूक सका मैं
न रोक सका वक़्त को ,दो पल जीने की लिए ।

अब समझा,भ्रम था मेरा ,
वक़्त मेरा है

One Comment on “रमेश वधवा ( समय प्रतियोगिता | युगान्तकारी रचना हेतू प्रशंसा पत्र )

Leave a Comment

Your email address will not be published.

You may use these HTML tags and attributes:

<a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

×

Hello!

Click on our representatives below to chat on WhatsApp or send us an email to ubi.unitedbyink@gmail.com

× How can I help you?