रजिन्दर कोर(विधा : मुक्तक) (फूल खिले हैं गुलशन गुलशन | प्रशंसा पत्र)

रजिन्दर कोर(विधा : मुक्तक) (फूल खिले हैं गुलशन गुलशन | प्रशंसा पत्र)

245
(No Ratings Yet)
image

रजिन्दर कोर

गुलाब की तरह महका करो ,
सब के दिलों में चेहका करो ,
जीवन में अगर आए मुसीबत ,
तुम न यूँ कभी बेहका करो ।

रजिन्दर कोर (रेशू)
अमृतसर

Leave a Comment

Your email address will not be published.

You may use these HTML tags and attributes:

<a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

×

Hello!

Click on our representatives below to chat on WhatsApp or send us an email to ubi.unitedbyink@gmail.com

× How can I help you?