रंजना बंसल (UBI सपनों की उड़ान प्रतियोगिता | प्रशंसा पत्र )

रंजना बंसल (UBI सपनों की उड़ान प्रतियोगिता | प्रशंसा पत्र )

442
(No Ratings Yet)
image

रंजना बंसल

जागी आँखों मे पलता ,
मन में उमंग भरता ,
जीवन को और जीवंत करता ,
पंखों में परवाज़ भरता …
एक सपना !

हौंसलें इरादों में फूँकता ,
दिमाग में बिजली सा कौंधता ,
तन को मजबूत करता ,
मन को पक्का करता …
एक सपना !

बिन सुर अधूरी है तान ,
बिन सांस कुछ नही हैं प्राण ,
बिन माँ कहाँ मिलेगी सन्तान ,
जीवन की सार्थकता भी है..
एक सपना …और उसमें भरी उड़ान ।।

 

Leave a Comment

Your email address will not be published.

You may use these HTML tags and attributes:

<a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

×

Hello!

Click on our representatives below to chat on WhatsApp or send us an email to ubi.unitedbyink@gmail.com

× How can I help you?