रंजना बंसल।(विधा : लेख) (मानवता | सम्मान-पत्र)

रंजना बंसल।(विधा : लेख) (मानवता | सम्मान-पत्र)

215
(No Ratings Yet)
image

रंजना बंसल

नमस्कार दोस्तों ,
आपने भी महसूस तो किया ही होगा कि अक्सर चर्चा का विषय बनता है ये शब्द ‘ मानवता ‘ पर व्यवहार में नही मिलता है आसानी से । किसी गरीब को कुछ सिक्के , पुराने कपड़ों या बासी ताज़ा खाना देने । कोई दान या धार्मिक अनुशठान करने से भी आगे की प्रक्रिया , सम्वेदना या भाव है ये । घर में काम करने वाले नौकर से ,अपने से छोटों से , अनजाने लोगों से सम्मानपूर्वक बात कर लेना भी मेरी समझ से मानवता ही है । जानवरों के प्रति क्रूर ना होना , पालतू जानवर को ज़ंजीरो में जकड़ कर , पिंजरे में बंद कर अपने मनोरंजन अथवा सुरक्षा के लिए रखना क्या अमानवीय नही है ??
स्कूलों में कभी कभी शिक्षकों का बर्ताव , बुजुर्ग सास ससुर के प्रति बहु का व्यहवार , घर में शादी करके आई बहू के साथ कर्कश वार्तालाप भी क्या मानवता से परे नही हैं ??
डाक्टरों का मरीज़ों का शोषण , मंदिरों मेन दर्शन के नाम पर पंडितों की ज़बरदस्ती , पैसा कमाने के नाम पर नक़ली दवायें , मिठाई , दूध , घी , सब्ज़ी , फलों का व्यापार … कहाँ बची है ये मानवता !
शायद सुकून , शांति , संतुष्टि की तरह ये भी सिर्फ़ सोच विचार में ही रह गयी है ।
किंतु देर अभी भीनही हुई है .. सोच को , विचार को व्यवहार बनाना होगा । किताबों क़िस्सों से निकालकर रोज़मर्रा की ज़िंदगी का हिस्सा बनाना होगा । चलो इसी होली से शुरुआत करते हैं । प्यार मोहब्बत के त्योहार पर एक दूसरे को मानवता के रंग से रंगते हैं ।
© Ranjana Bansal

ये लेख मौलिक एवें अप्रकाशित है ।

Leave a Comment

Your email address will not be published.

You may use these HTML tags and attributes:

<a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

×

Hello!

Click on our representatives below to chat on WhatsApp or send us an email to ubi.unitedbyink@gmail.com

× How can I help you?