मुक्ता टंडन (भूत बंगला प्रतियोगिता | सहभागिता प्रमाण पत्र )

मुक्ता टंडन (भूत बंगला प्रतियोगिता | सहभागिता प्रमाण पत्र )

46
(No Ratings Yet)
image

मुक्ता टंडन

आज फिर वही अमावस की काली घनी रात बारह बजे
वीरान खंडहर से पड़े उस किले के भीतर,
अचानक जल उठी है लाइट
उभरी इक दर्दनाक चीख,
फिर विकराल सा अट्टहास,
हवा एकदम सिहर, सिमट ठहर सी गई,
दहल उठा मेरा दिल
क्या है वहां बुरा साया किसी का?
रहते हैं क्या वहां भूत-प्रेत?
भटक रहीं हैं क्या उस किले में अतृप्त आत्मा किसी की?
सोचती हूं, ऐसा क्या हुआ होगा? क्यों अट्टहास और रुदन करतीं हैं वहां की दीवारें?
क्या देखा होगा वहां की दरों दी्वारों ने?

क्यूं सहमी-सहमी सी है हवा?
भूत-प्रेत सच‌ में है या महज़ ‌‌कल्पना है?या फिर
विकृत सोच है डरे सहमे मन की
परछाईं है ये अट्टहास और रुदन
मानव के ही कुकर्मों की?
मानव में स्वयं भूत -प्रेत छुपा है?
आज तक मैं समझ न पाईं, गुत्थी सुलझा न पाईं उस भूत – बंगले की।

Leave a Comment

Your email address will not be published.

You may use these HTML tags and attributes:

<a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>