मनप्रीत सरला।(विधा : कविता) (साथी हाथ बढ़ाना | सम्मान-पत्र)

मनप्रीत सरला।(विधा : कविता) (साथी हाथ बढ़ाना | सम्मान-पत्र)

427
2
image

मनप्रीत सरला

साहस और संयम का , आ चल फिर से इतिहास दोहराएँ,
होता क्या है हाथ बढ़ाना साथी, आ चल दुनिया को दिखलाएँ
दीए की इक लौ से, आ चल जग का आँगन चमकाएँ,
होता क्या है हाथ बढ़ाना साथी, आ चल दुनिया को दिखलाएँ
उदासी के बहते दरिए में, आ आशाओं का कमल खिलाएँ,
होता क्या है हाथ बढ़ाना साथी, आ चल दुनिया को दिखलाएँ
सूझ -बूझ और धीरज से, कर्मवीरों का हौसला बढ़ाएँ,
होता क्या है हाथ बढ़ाना साथी, आ चल दुनिया को दिखलाएँ
साँझा करें खुशियाँ अपनी सबसे, सबका दुख-दर्द अपनाएँ,
होता क्या है हाथ बढ़ाना साथी, आ चल दुनिया को दिखलाएँ
तोड़ ना पाएँ जिस इमारत को कोई कोरोना, आ इक ऐसी दीवार बनाएँ,
होता क्या है हाथ बढ़ाना साथी, आ चल दुनिया को दिखलाएँ
रहे गवाह जिसका इतिहास हमेशा, आ इक ऐसी सदी लिख जाएँ,
होता क्या है हाथ बढ़ाना साथी, आ चल दुनिया को दिखलाएँ
संतो और वीरों की भूमि का बखान करें ये दुनिया, आ कुछ ऐसा कर जाएँ,
होता क्या है हाथ बढ़ाना साथी, आ चल दुनिया को दिखलाएँ

~ मनप्रीत (बोस्की)

33 Comments on “मनप्रीत सरला।(विधा : कविता) (साथी हाथ बढ़ाना | सम्मान-पत्र)

Leave a Comment

Your email address will not be published.

You may use these HTML tags and attributes:

<a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

×

Hello!

Click on our representatives below to chat on WhatsApp or send us an email to ubi.unitedbyink@gmail.com

× How can I help you?