प्रीति पटवर्धन (UBI इंद्रधनुष प्रतियोगिता | सम्मान पत्र )

प्रीति पटवर्धन (UBI इंद्रधनुष प्रतियोगिता | सम्मान पत्र )

75
(No Ratings Yet)
image

प्रीति पटवर्धन

बेरुखी के बादल जब उमड़ घुमड कर आते है

जज्बातों की बूंदों से मन को भीगो कर जाते हैं

भीग जाती है पलकें सब धुँआ सा लगता है इंद्रधनुषी रंगो को पाना सपना सा लगता है

 

खो जाती हूँ कई बार उन लम्हों उन यादों में

देखती हूँ कुछ सपनें मैं भी इंद्रधनुषी रंगो में

 

सोचती हूँ 

क्यों आसमां आज यूँ इतरा रहा है

दिवा में काली घटा पर इठला रहा है

 

प्रेम की किरणों से रोशनी खूब जगमगाई है

इंद्रधनुषी रथ पर  सवार बारात जैसे आयी है

 

देखती हूँ

इश्क़ के बादल को अपनी आगोश में लेकर

किरणों ने भी रंग बदला है उन बूंदों को छूकर

 

भरी बरसात में आतिशबाजी हुई हो जैसे

खुले आसमान में रंगों का मिलन हुआ कैसे

 

मुहोब्बत  मैंने भी सातों रंगों से की थी 

 तमन्ना धूप की बरसते बादलों से की थी

 

सोचा था इन रंगो में खिल जाऊंगी

बदली बन आसमान में मिल जाऊंगी

 

न था मालूम कि सपने कभी सच न होंगे

इंद्रधनुषी  ये रंग कभी अपने न होंगें

 

आँखों ने कल फिर झड़ी लगाई थी

कुछ और नही बात तेरी जुदाई थी

 

व्याकुल मन में फिर भी आस अभी बाकी है

वीराने  में ‘इंद्रधनुषी’ सौगात अभी बाकी है।

7 Comments on “प्रीति पटवर्धन (UBI इंद्रधनुष प्रतियोगिता | सम्मान पत्र )

Leave a Comment

Your email address will not be published.

You may use these HTML tags and attributes:

<a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>