प्रीति पटवर्धन (भूत बंगला प्रतियोगिता | प्रशंसा पत्र)

प्रीति पटवर्धन (भूत बंगला प्रतियोगिता | प्रशंसा पत्र)

52
(No Ratings Yet)
image

प्रीति पटवर्धन

याद आता है मुझे एक किस्सा ज़रा पुराना है
डरना मत दोस्तों कहानी दिलचस्प सुनाना है

भयानक काली रात थी और नानी मेरे साथ थीं
बाहर घनघोर बरसात थी मंगलवार की बात थीं

तारीख अक्टूबर 31थी अमावस सा अँधेरा
सामने के बंगले पर था चौकीदार का पहरा

साय साय की आवाज़ कर हवाएं चल रही थीं
कुंडी बंद कर हम भी बिस्तर में दुबक गयीं थी

लग रहा था डर उस रोज़ सन्नाटा गहरा छाया था
आहट हुई जैसे कोई खिड़की से झाँक गया था

हिम्मत कर थोड़ा सा दरवाज़ा खोला मैंने
बाहर निकाल गर्दन आँखों को घुमाया मैंने

होश उड़ गए मेरे था वह भयानक सा मंजर
चार पाँच दिखे भूत सामने बंगले के अंदर

सफेद कफ़न ओढ़ एक कंकाल था खड़ा
सिर पर पहने टोपी हाथ में कद्दु लिए बड़ा

बड़े बड़े मकड़ी के जाले फैले थे चारों ओर
पेड़ पर उल्टा लटक किसी ने घूरा मेरी ओर

फिर अचानक जोर से आवाज़ हँसी की आयी
तीन मंजिला हवेली भूत बंगले सी नजऱ आयी

पसीने से तरबतर मेरी रूह कांप रही थी
सिर घूम रहा था मेरा बेहोशी छा गयी थी

आँख खुली तो देखा दोस्त ठहाके लगा रहे थे
हेलोवीन पार्टी थी बंगला भूत सा सजा रहे थे

Leave a Comment

Your email address will not be published.

You may use these HTML tags and attributes:

<a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>