प्रमोद मूंधड़ा (UBI सपनों की उड़ान प्रतियोगिता | सम्मान पत्र )

प्रमोद मूंधड़ा (UBI सपनों की उड़ान प्रतियोगिता | सम्मान पत्र )

314
(No Ratings Yet)
image

प्रमोद मूंधड़ा

रंगों की पहचान नहीं पर
इंद्रधनुष के चित्र बनाये
कैसे-कैसे स्वप्न सजाये
स्वप्नों में ही महल बनाये ।

स्वप्न में तेरा महल दूर है
इस चिंता में तू उदास है
कभी तो होगा महल पास में
कब से तेरी यही आस है ।

महल की आस तुझे भरमाये
कौन है तू ये सुध बिसराये
मृग मरीचिका की तलाश में
गिरे,थके,खुद को तड़पाये ।
बेसुध है तू , सपना है ये
बंद आंख तू जान न पाये
ऐसी गहन नींद है तेरी
कैसे कोई तुझे जगाये ।

जब कोई पुकार दे तुझको
करवट लेकर फिर सो जाये
भरम नींद का टूट न पाये
मर्म से तू वंचित रह जाये ।

आंख खुले तब जान पड़े ये
सपना था तब जान पड़े ये ।
अवसर चूका, गयी जिंदगी
सोच सोच के तू पछताये ।।

Leave a Comment

Your email address will not be published.

You may use these HTML tags and attributes:

<a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

×

Hello!

Click on our representatives below to chat on WhatsApp or send us an email to ubi.unitedbyink@gmail.com

× How can I help you?