डॉ. हरविंदर सिंह गाँधी। (विधा : कविता) (धोखा | सम्मान पत्र)

डॉ. हरविंदर सिंह गाँधी। (विधा : कविता) (धोखा | सम्मान पत्र)

76
(No Ratings Yet)
image

डॉ. हरविंदर सिंह गाँधी

नि:संदेह ही , वो मुझे धोखा देकर ,बहुत संतुष्ट हुआ होगा
पर आत्मग्लानि की तपस ने , उसे कभी तो छुआ होगा

देख तो लिया था , तेरे हाथ में वादाखिलाफी का ख़ंजर मैंने
पर , मुस्कुरा कर मिला मैं , बदलने न दिया मंज़र मैंने

मेरे सच बोहनी भी न हुई , और उसका झूठ हाथोंहाथ बिका
झूठ के पाँव न सही , पर था वो मेरे यक़ीं पर टिका

वो मौक़ापरस्त था , मौक़ा ताड़ कर मुझे किनारे कर डाला
रिश्ते की चाशनी में , मतलब का ज़हर भर डाला

मैं विश्वास ही न करता , तो वो धोखा देता कैसे
वो तो शातिर था , वफ़ा का नाम लेता कैसे

मैंने यक़ीन के धागे में , दिल से पिरोई थी माला
उसने , एक धोखे से , तार तार कर डाला

पर , मैं वो हूँ , जो टूट टूट के , कई बार जुड़ा हूँ
खुदा की नज़र में अच्छा , उसकी नज़र में बुरा हूँ

धोखा खा कर भी , मैं ये ऐलान कर रहा हूँ
क़त्ल के सभी ख़ंजर , मैं झोली में भर रहा हूँ

जब मेरी आहों का तड़प , फलक से टकराएगी
तेरे भी पैरों के नीचे से , धरती सरक जाएगी

याद रहे , जब भी मैं जर्जर हो कर बिखरा हूँ
और बेहतर बना हूँ , और ज़्यादा निखरा हूँ

………….. डॉ. हरविंदर सिंह गाँधी

 

 

 

Leave a Comment

Your email address will not be published.

You may use these HTML tags and attributes:

<a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

×

Hello!

Click on our representatives below to chat on WhatsApp or send us an email to ubi.unitedbyink@gmail.com

× How can I help you?