डॉ सोनिया। (विधा : गीत) (मेरा देश मेरा अभिमान | सम्मान पत्र)

डॉ सोनिया। (विधा : गीत) (मेरा देश मेरा अभिमान | सम्मान पत्र)

121
(No Ratings Yet)
image

डॉ. सोनिया

मैं भारत की जमीं से हूँ, मुझे तो नाज़ है इसका,
तिरंगा वो लहरता सा बना सरताज है इसका !

नजाने धर्म हैं कितने, नजाने ग्रन्थ हैं कितने,
मिलें भाषाएँ कितनी ही, नजाने भेस हैं कितने,
मगर फिर भी रहें सब एक, ये ही राज़ है इसका !
मैं भारत की…………………………………………….

मिलें हैं धाम कितने हीं, बहें नदियाँ यहाँ पावन,
कहीं सहरा दहकता सा, कहीं खिलता हुआ मधुबन,
कहाता ‘सोन चिड़िया’ ये, अलग अंदाज़ है इसका !
मैं भारत की…………………………………………….

यहाँ के वीर रण में जा, कटा देते हैं सिर अपना,
सदा फलता रहे ये देश, देखें बस यही सपना,
न पूछो आदमी हर इक लगे जांबाज़ है इसका !
मैं भारत की…………………………………………….

शहीदों की अभी भी सब यहाँ जयकार करते हैं,
बड़े छोटे सभी इक दूसरे से प्यार करते हैं,
मुहब्बत गीत है इसका, इबादत साज है इसका !
मैं भारत की…………………………………………….
*******************************************
डॉ सोनिया गुप्ता

 

Leave a Comment

Your email address will not be published.

You may use these HTML tags and attributes:

<a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

×

Hello!

Click on our representatives below to chat on WhatsApp or send us an email to ubi.unitedbyink@gmail.com

× How can I help you?