डॉ नीता जाधव (UBI भीगी पलकें प्रतियोगिता | सहभागिता प्रमाण पत्र )

डॉ नीता जाधव (UBI भीगी पलकें प्रतियोगिता | सहभागिता प्रमाण पत्र )

426
(No Ratings Yet)

बंद रही पलकें उसकी
बहते रहे फिर आँसू उसके. .
थामा दामन फिर उड़ गया
टूट गये सारे सपने उसके . . .

अब जो टूटी तो फिर ना जुड़ेगी . . .
बंद पलकें उसकी कभी ना
खुलेंगी . . .
दूर क्षितिज तक किनारा नहीं
कोई उसका सहारा नहीं
सिमट गयी उसकी दुनियाँ
कहीं . . .
बिखर गयी सारी कल्पनाएँ
कहीं . . .

आज भी हैं प्रतीक्षा किसी की
आज भी हैं इंतजार किसी का
वो ना हुआ अपना तो क्या
आज भी हैं करार उसी का. . .

सहारे यादों के बस बाकी हैं
घरोन्दे यादों के सहारे टिके हैं
सोचा ना इतना भी जरा
हम जिनके लिये मिटे थे . . .

क्या वो हमारे हो सकें हैं ??
क्या वो हमारे हो सकें हैं ? ?

Leave a Comment

Your email address will not be published.

You may use these HTML tags and attributes:

<a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

×

Hello!

Click on our representatives below to chat on WhatsApp or send us an email to ubi.unitedbyink@gmail.com

× How can I help you?