डॉ. आराधना सिंह बुंदेला। (विधा : कविता) (दादी नानी की कहानियाँ | सम्मान पत्र)

डॉ. आराधना सिंह बुंदेला। (विधा : कविता) (दादी नानी की कहानियाँ | सम्मान पत्र)

93
(No Ratings Yet)
image

डॉ. आराधना सिंह बुंदेला

दादी नानी की कहानियाँ , कुछ लम्बी-कुछ छोटी ,
कुछ मज़ेदार -कुछ डरावनी और उनकी ही ज़ुबानी;
मन के एक कोने में सजी संवरी बैठी हैं,
आज भी शिक्षा देती हैं ,और हिम्मत हमें दिलाती हैं।

वो शहर से दूर मेरी नानी के गाँव में ,
छोटे छोटे हम सब और एक ही छाँव में ;
मामा के साथ का वो गर्मियों का कारवाँ ,
ख़ुशी से गुनगुनाना और फूला ना समाना ।

ऊँचे थे पहाड़ , और लम्बे थे रास्ते ,
कभी ठंडा शर्बत पीते या मटका क़ुल्फ़ी खाते ;
कभी रास्ते के हिरन और बंदर को देखते ,
कभी पुल के नीचे बहती नदी में सिक्के डालते जाते ।

बड़ा सा नानी का घर , तब और बड़ा लगता ,
दरवाज़े पर दीपक रख , और हाथ में आरती लेकर ;
नानी आती और हमारी सारी बलाएँ भगाती,
माँ से गले मिल कर आंखो के कोर भिगोतीं ।

पूरे घर में दौड़ते हम और लुका छिपी करते ,
गावों की दोपहर को बातों और किताबों से बिताते ;
शाम को खेतों की लम्बी डगर पर दौड़ लगाते ,
और माली काका से आम के पेड़ पर झूले लगवाते ।

एक फ़रमाइश पर दौड़ के आतीं दादी -नानी ,
कभी लगता ये दादी-नानी हैं या जादूगरनी,
अब वो जादूगरनी दादी-नानी नहीं रहीं,
पर उनकी कहानियाँ आज भी जीना सिखा रहीं ।

मौलिक रचना

सर्वाधिकार सुरक्षित
डॉ आराधना सिंह बुंदेला

Leave a Comment

Your email address will not be published.

You may use these HTML tags and attributes:

<a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

×

Hello!

Click on our representatives below to chat on WhatsApp or send us an email to ubi.unitedbyink@gmail.com

× How can I help you?