कृष्णा बुडाकोटी। (विधा : कविता) (मेरा देश मेरा अभिमान | प्रशंसा पत्र)

कृष्णा बुडाकोटी। (विधा : कविता) (मेरा देश मेरा अभिमान | प्रशंसा पत्र)

51
(No Ratings Yet)
image

कृष्णा बुडाकोटी

राम,कृष्ण और शिव की धरती अपनी ,
बुद्ध, नानक और गौतम की धरती अपनी।
यहाँ जन्मे गुरु वाल्मीकि, वशिष्ठ,तुलसी महान,
गर्व से कहो, मेरा देश , मेरा अभिमान।।

सनातन धर्म और संस्कृति का परिचायक है ,
जो दिशा दिखाए औरों को वो नायक है ।
जहाँ साथ पढ़ी जाती है गीता और कुरान ,
गर्व से कहो , मेरा देश , मेरा अभिमान।।

जिस धरती पर नारी को पूजा जाता है ,
भाई- बहन का त्योहार मनाया जाता है।
जहाँ पूजते सूर्य ,वृक्ष, चंद्र हो जैसे भगवान,
गर्व से कहो , मेरा देश , मेरा अभिमान।।

जिस भारत- भूमि को धरती माँ कहते ,
जिसकी लाज बचाने को हर दुःख सहते।
जिसकी रक्षा को कर देते सर्वस्व बलिदान,
गर्व से कहो , मेरा देश ,मेरा अभिमान।।

जिसकी माटी की धूल लगाते हैं दीवाने,
जिसकी खातिर मर – मिट जाते हैं परवाने,
सर कटा कर भी रखते तिरंगे का मान ,
गर्व से कहो , मेरा देश , मेरा अभिमान।।

उत्तर में शीषमुकुट है हिमालय विशाल,
दक्षिण में चरणों को धोता सागर अपार।
और मध्य में गंगा ,यमुना,सरस्वती महान,
गर्व से कहो , मेरा देश ,मेरा अभिमान।।

सर्वाधिकार सुरक्षित@ कृष्णा बुडाकोटी

Leave a Comment

Your email address will not be published.

You may use these HTML tags and attributes:

<a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

×

Hello!

Click on our representatives below to chat on WhatsApp or send us an email to ubi.unitedbyink@gmail.com

× How can I help you?