आराधना सिंह बुंदेला । (विधा : कविता) (भाषा | सम्मान पत्र)

आराधना सिंह बुंदेला । (विधा : कविता) (भाषा | सम्मान पत्र)

99
(No Ratings Yet)
image

आराधना सिंह बुंदेला

कैसे बताऊँ , कितनी प्यारी हो तुम ,
मुझे मेरे माँ बाबा से,और उनको उनके से मिली हो तुम ,
कहना सुनना,सीखना सीखना ,सब तुमसे ही है ,
अपनापन,प्यार और संस्कार सब तुममें ही है ।

तुमसे हैं बचपन की कहानियाँ,
वो हंसने रोने और डरने डराने की ज़ुबानियाँ ,
कभी रातों को काला बाबा आता था ,
कभी पारियों ने हमें दुष्ट जादूगरों से बचाया था ।

भाषा के परिवेश में हम हैं रचे बसे ,
घर के माली भी , माली काका हैं ,
रसोई पकाने वाली भी,अम्मा या काकी हैं ,
सबका सम्मान और तहज़ीब की ये कहानी है ।

आप, आपका , आपने और आपके ,
हुकुम , प्रणाम , पाय लागूँ ,खम्मा घणी ,
ये मेरी भाषा के सम्मान देने के तरीक़े हैं ,
बड़ों को कभी भी दुःख ना देने के सलीके हैं ।

ये भाषा गूंजती है,पापा की सीख बनकर ,
माँ की झिड़कियों में,जीवन का संस्कार बनकर ,
सही ग़लत की पहचान बनकर ,
और बड़ों की बोली में,ज़िंदगी की राह बनकर ।

ये भाषा मेरे , होने की पहचान है ,
ये मेरे बिन बोले सलीकों की आवाज़ है ,
ये मुझमें रची बसी, मेहँदी की ख़ुशबू सी ,
मातृभूमि की मासूम,और ख़ुशनुमा मुस्कान सी ।

@आराधना सिंह बुंदेला

 

Leave a Comment

Your email address will not be published.

You may use these HTML tags and attributes:

<a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

×

Hello!

Click on our representatives below to chat on WhatsApp or send us an email to ubi.unitedbyink@gmail.com

× How can I help you?