अमित खरे। (विधा : कविता) (धोखा | प्रशंसा पत्र)

अमित खरे। (विधा : कविता) (धोखा | प्रशंसा पत्र)

84
(No Ratings Yet)
image

अमित खरे

कलियुग में जो दिखता है,
बड़े लाभ का मौका।
देख भाल कर डग रखना ,
वहीं छुपा है धोखा ।

फितरत ये इन्सानी है,
हरदम लोभ गुलामी,
धोखेबाज़ो को होती इस,
अवगुण से आसानी,
ढीली गेंदों पर लगता है ,
आसानी से चौका।

कृतज्ञता का धोखा देकर,
वचन लिये कैकई ने।
लांघी धोखे में आकर ,
लक्ष्मण रेखा सिय ने।
रावण की मृत्यु के पीछे
अहंकार का धोखा ।

धृतक्रीड़ा का आयोजन,
था शकुनि का धोखा,
धोखा देकर अभिमन्यु को,
चक्रव्यूह में झोंका,
मूल में महाभारत के ,
दुर्योधन का धोखा।

द्वारा -अमित खरे

Leave a Comment

Your email address will not be published.

You may use these HTML tags and attributes:

<a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

×

Hello!

Click on our representatives below to chat on WhatsApp or send us an email to ubi.unitedbyink@gmail.com

× How can I help you?