अनु साहनी (UBI उस गली में प्रतियोगिता | सहभागिता प्रमाण पत्र)

अनु साहनी (UBI उस गली में प्रतियोगिता | सहभागिता प्रमाण पत्र)

439
(No Ratings Yet)
image

अनु साहनी

रात में जिस गली का सन्नाटा पुरज़ोर था,
भोर होते ही वहाँ का दृश्य ही कुछ और था ।

निस्तब्ध निशा को जीतकर , निकली थी “भोर” अगले पड़ाव,
नवउमंगों से तरंगित, वह मंज़र ही कुछ और था।

पुलकित हुआ मन देख , वहाँ अल्हड़ बच्चों की मस्तियाँ ,
वो शोखियाँ , नादानियाँ , वो खिलखिलाती हस्तियाँ ।

हर्षित हुआ मन देख ,चेहरे चाँद से रोशन ,
न माथे पर कोई चिंता ,वह नवजीवन भरा यौवन ।

अँधेरी रात के अँधेरे ,जहाँ खत्म होते हैं ।
नवकिरणों के आगाज़ से , फिज़ा में रंग भरते हैं ।

चंद लम्हों में ही क्यूँ न हो , हसीं ख्वाबों को जी लें हम,
हो सामना जब हकीकत से ,तो फिर उलझन ,हज़ारों गम।

न जाने कल क्या होगा ,बेखबर है हर इंसान,
तो क्यूँ न जी लें इस पल को , है उत्सव जैसा यह समां ।

नवउमंग और नवतरंग का उफान , वहाँ पुरज़ोर था ,
“भोर” होते “उस गली का” दृश्य ही कुछ और था।

Leave a Comment

Your email address will not be published.

You may use these HTML tags and attributes:

<a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

×

Hello!

Click on our representatives below to chat on WhatsApp or send us an email to ubi.unitedbyink@gmail.com

× How can I help you?