अनु यादव (UBI भीगी पलकें प्रतियोगिता | सहभागिता प्रमाण पत्र )

अनु यादव (UBI भीगी पलकें प्रतियोगिता | सहभागिता प्रमाण पत्र )

317
(No Ratings Yet)

भीगी पलकें थी
क्यूंकि विदाई की घडी थी
बाबुल का घर छोड़
पिया संग मैं चली थी ।

वोह खुशनुमा माहौल था
हर तरफ खुशियों का ढोल था,
माँ का आँचल दूर जा रहा था
बाबुल का अंगना पीछे छूटे जा रहा था ।

उस दिन भीगी थी पलकें एक माँ की
जिसने अपने खून से मुझे सींचा था
भीगी थी पलकें एक पिता की
जिसने बड़े नाज़ों से अपनी बिटिया को पाला था ।

उस दिन वोह भाई भी
जिससे हमेशा नोंक-झोंक होती थी
विदाई की उस घडी में
उसकी भी पलकें भीगी थी ।
क्यूंकि बाबुल का घर छोड़,
पिया संग मैं चली थी ।।

Leave a Comment

Your email address will not be published.

You may use these HTML tags and attributes:

<a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

×

Hello!

Click on our representatives below to chat on WhatsApp or send us an email to ubi.unitedbyink@gmail.com

× How can I help you?