Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Poetry

SUNSET

Death celebrates day, it’s a way. Soil grains love cells, the Truth of hell.

Read More »
Hindi Poetry

तुम ही थे

कहीं बैठा था मैं अपने स्वप्न-मित्रों के साथ और लगा तभी मुझे कि एक हवा के झोकें से कुछ विचलित सा हो गया हूँ मैं

Read More »
Hindi Poetry

तन्हाई की भाव-भरी बातें

कभी सुनी है तुमने तन्हाई की आवाज़बैठे थे जो साथ, हम तुम कभीहाथों में हांथ भी था, और महसूस किया थाहृदय-भावों का निर्मल चुम्बन।किंचित आँखों

Read More »
Hindi Poetry

प्रकृति

जहाँ जाने के बाद वापस आने का मन ना करे जितना भी घूम लो वहाँ पर कभी मन ना भरे हरियाली, व स्वच्छ हवा भरमार

Read More »
Poetry

Coronavirus in my Country

(Poem) Coronavirus In My Country It is sad everywhere, Nothing is on the way, Streets quite and lonely, Like at the graveyard, Is perplex, I

Read More »

धरती माँ

धरती यही तो है हम सबकी माँ ! इस जेसा कहाँ दूसरा ! इसकी पनाह मै ! दुिनया पलती है ! जो पल पल रंग

Read More »
Hindi Poetry

ख्वाहिशें

फिर इक नयी उम्मीद, फिर इक नयी चाहत फिर इक नया सवेरा आ चल कर लें ख्वाहिशें पूरी कि जब तक साथ है तेरा और

Read More »
Poetry

Covid diaries

It used to twitter before though it was never descried, It used to fly before though it was never recognised, Today it trills and is

Read More »
×

Hello!

Click on our representatives below to chat on WhatsApp or send us an email to ubi.unitedbyink@gmail.com

× How can I help you?