Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
WINNING ENTRIES

अश्विनी राय (UBI धरती माँ प्रतियोगिता | सहभागिता प्रमाण पत्र)

कल का राजा अंधा था आज अंधे ही भरे हैं दरबारों में जनता बहरी गूंगी जन्मी आज के संसारों में यहां धरती किसकी माता है

Read More »
WINNING ENTRIES

अरूणा शर्मा (UBI धरती माँ प्रतियोगिता | सम्मान पत्र (कविता))

माँ वसुंधरा:- “अरे नहीं!!नहीं,अब बस करो!!” वो रोने लगी।अब तो चिल्ला पड़ी। मगर……बड़े निर्दयी हैं सब। कोई नहीं सुनता।किसी को न इसकी पड़ी। एक आई।फिर

Read More »
WINNING ENTRIES

रीटा बधवार (UBI धरती माँ प्रतियोगिता | प्रशंसा पत्र (कविता ))

“धरती माँ” हिरण्यमयी,सुवर्णा,रत्नगर्भा, न जाने कितने तेरे नाम अनंत काल से तू करती आयी लालन-पालन…प्यारी धरती माँ खेल कूद कर बड़े हुए हम तेरी माटी

Read More »
WINNING ENTRIES

शिबराज प्रधान (UBI धरती माँ प्रतियोगिता | प्रशंसा पत्र (कविता ))

धरती माँ । शिबराज प्रधान। दर्पण पे लिखावट के शर्तोंमे सँवरके सुरम्यताके मोहिनी तर्जौंमे थिरकके चपल लहरों के जूदा रीत मे बँधके तेरे असीमित अंकमालमे

Read More »
WINNING ENTRIES

हेमलता मिश्रा मानवी (UBI धरती माँ प्रतियोगिता | सम्मान पत्र (कविता))

धरती है माता मेरी ,प्रकृति की है दुलारी माथे धारें पद रज ,महिमा ही गाई है।। १!! अविनाशी अवनि की, बात ही निराली सखी युगों

Read More »
WINNING ENTRIES

अमित गुप्ता (UBI धरती माँ प्रतियोगिता | प्रशंसा पत्र (कविता ))

धरती की सुंदरता इसके पेड़ पौधे शैवाल कवक चहूँ ओर फैली ये हरियाली है छीन रहे हम नासमझ… पाने को क्षणिक खुशहाली हैं धरती के

Read More »
WINNING ENTRIES

कृष्णा बुडाकोटी (UBI धरती माँ प्रतियोगिता | सम्मान पत्र (कविता))

धरती माँ **** कैसे गुणगान करूँ मैं तेरी हे धरती माँ, शत-शत नमन करूँ तुझे हे धरती माँ । बच्चों की खातिर सीने में कुदाल

Read More »
×

Hello!

Click on our representatives below to chat on WhatsApp or send us an email to ubi.unitedbyink@gmail.com

× How can I help you?