Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
WINNING ENTRIES

हिना शाइस्ता। (विधा : गीत) (गुल्लक | सम्मान-पत्र)

कुछ खुशियांँ ,कुछ आंँसू कुछ मुस्कुराहट,कुछ गुस्सा कुछ धूप ,कुछ छांँव कुछ दमकती काया कुछ मोह,कुछ माया कुछ भागम भाग ज़िन्दगी की कुछ थकन ज़िन्दगी

Read More »
WINNING ENTRIES

हिना शाइस्ता। (विधा : लघु-कथा) (गुल्लक | सम्मान-पत्र)

संवादों के माध्यम से लिखी गई एक लघुकथा (((और ईश्वर ने मिट्टी के पुतले में प्राण डाल दिया))  “कबीर अब तुम्हें दुनिया में भेजा जा

Read More »
WINNING ENTRIES

आराधना अग्रवाल। (विधा : कविता) (गुल्लक | प्रशंसा-पत्र)

मेरे दिल का गुल्लक अहसासों से लबालब भरा है, पर मेरे लब की मानिंद खामोश रहता है। इसमें कोई हलचल नहीं, रुपयों से गंभीर विचार

Read More »
×

Hello!

Click on our representatives below to chat on WhatsApp or send us an email to ubi.unitedbyink@gmail.com

× How can I help you?