ग़ज़ल

ग़ज़ल

423
4

ग़ज़ल ( आदत न रखे )

जवानी से उलझने की, नीयत न रखे।
दख़लंदाज़ी करने की, जुअरत न रखे ।।

ऐसे दौर से गुज़रना अनहोनी बात नहीं।
जवाँ हसरतें बाँधने की, हसरत न रखे।।

विवशता इस समय उन्हें भी सता रही।
अंगारों को बुझाने की नसीहत न रखे।।

नौजवानी में तीरे – नीमकश का मारा है।
ध्यान रहे, खुली घर की छत न रखे।।

इश्क मकड़जाल, हर उमर पर बुनता है।
कमउमर पर सियासी, तख़्त न रखे।।

चोट का दर्द क़ायम नहीं रहेगा, दस्तुर है।
हर वक्त, मत देने की आदत न रखे।।

अंजाम जो होगा बरखुरदार झेल लेगा।
“आभा”पहरेदारी बच्चों पे सख़्त न रखे।।

बरखुरदार – बेटा या बेटी
तीरे नीमकश – आधा धँसा हुआ तीर, ख़लिश

आभा….🖋

One Comment on “ग़ज़ल

Leave a Comment

Your email address will not be published.

You may use these HTML tags and attributes:

<a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

×

Hello!

Click on our representatives below to chat on WhatsApp or send us an email to ubi.unitedbyink@gmail.com

× How can I help you?