ख्वाहिशें

ख्वाहिशें

369
5

फिर इक नयी उम्मीद, फिर इक नयी चाहत
फिर इक नया सवेरा
आ चल कर लें ख्वाहिशें पूरी
कि जब तक साथ है तेरा और मेरा

आ चल कि फिर से पकड़े तितलियाँ
आ चल कि फिर से रातों में जुगनूँ निहारें
आ चल कि फिर से मैं देखूँ तुझे यूँहीं
आ चल कि फिर से तू मुझे यूँहीं पुकारे

आ चल कि फिर से चलें उन पगडंडियों पे
जिनकी मंज़िल तेरे और मेरे सिवाय और कोई ना जानें
आ चल कि बुनें फिर से वो सपनें
जो तुने और मैंने चाय की चुस्कियों पर सँवारें

आ चल कि फिर से ढूँढ लें वो लम्हें
जो दुनिया की भीड़ में हम तुम ने गँवाए
आ चल कि गुज़रता नहीं ये वक्त़ तेरे बिना
ये छोटी सी लंबी ज़िदगी …कैसे तुझ बिन गुज़ारें

मनप्रीत (बोस्की)

3 Comments on “ख्वाहिशें

Leave a Comment

Your email address will not be published.

You may use these HTML tags and attributes:

<a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

×

Hello!

Click on our representatives below to chat on WhatsApp or send us an email to ubi.unitedbyink@gmail.com

× How can I help you?