वह कागज़ का टुकड़ा

वह कागज़ का टुकड़ा

651
(No Ratings Yet)
आज भी
         भूला नहीं “वो” चेहरा
        टकरा गई थी, प्लेटफार्म पे
               घबराई नज़रों से
                     सहमी सी-
     देख रही थी जाती हुई रेलगाड़ी
      ‌ ‌‌‌              ‌ मैनें पूछा –
                     क्या हुआ  ?
                    वह रो  पड़ी
               साथ  मेरे  घर आ गई
                        ना जाने
                      किस  भरोसे  से
मां के गले  लग सुना  दी “सब दास्तां”
                           और –
               सुबह  मैं  छोड़ आया
                         जाते -जाते
  ‌‌‌               ‌‌‌‌     थमा दिया मुझको
            ‌‌‌‌ एक कागज़  का टुकड़ा
     “मैं ” देखता रहा  दूर तक जाते  उसे
          ‌‌‌‌‌‌         ‌‌‌एक संदेश था
                  उसकी  आंखों  में
                कागज़ का टुकड़ा उड़ गया
                     ना जानें क्यों -?
       रोज  कदम  मेरे  अनायास
                प्लेटफार्म पे जाने  लगे
रोज़  आती “रेलगाड़ी” देखता  रुकने तक
                     ४० वर्ष बाद
         “रेलगाड़ी” _आज फिर रूकी
                   एक क्षीणकाय वृद्धा
                     मेरे  सामने थी
                  मुझे पता था-
                        यहीं मिलोगे
                   तुम ,,,,अब आई  ?
      ‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌    तुम्हारा  इंतज़ार करता रही,,,
                      और -मैं तुम्हारा,?
   ‌‌‌  मैंने पता दिया था कागज़ पे
                    वो कागज़ का टुकड़ा!!
                     वो तो उड़ गया था
                  क्या ,,,या,,या,,,! ! !
                वह मेरी  बाहों में थी
                    अपलक निहारती
            प्राण पखेरु उड़ चुके थे ,,,,
                     रेलगाड़ी चली गई,,,,
रति चौबे

Leave a Comment

Your email address will not be published.

You may use these HTML tags and attributes:

<a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

×

Hello!

Click on our representatives below to chat on WhatsApp or send us an email to ubi.unitedbyink@gmail.com

× How can I help you?