मेहनत

मेहनत

740
(No Ratings Yet)

बिन मेहनत बिन लगन के
चांद को छूने के
ख्वाब आ गए हैं,
इस नए जमाने में
बड़ों को रुसवा करने के
नए रिवाज आ गए हैं।
पद हैं बड़े
तनख्वाहें है ऊंची,
रिश्तों को छोटा करने के
सब सामान आ गए हैं
जीते थे दूसरों के लिये
मेरे देश के बाशिंदे
पर ,
अब तो बस
हुकूमत करने के
जज्बात आ गए हैं ।

अवनीश

2 Comments on “मेहनत

Leave a Comment

Your email address will not be published.

You may use these HTML tags and attributes:

<a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

×

Hello!

Click on our representatives below to chat on WhatsApp or send us an email to ubi.unitedbyink@gmail.com

× How can I help you?