मुहब्बत

मुहब्बत

792
(No Ratings Yet)

#UBI #Valentinesday

मुहब्बत पे इल्ज़ाम है
मुहब्बत दर्द देती है
मुहब्बत ही ग़म का सबब होती है
हुज़ूर,
मुहब्बत तो यूँ ही बदनाम है
अकेलापन, अधूरी ख़्वाहिशें,
अधूरी कहानियाँ और रूसवाई
इन ज़ख़्मों से जब टीस उठती हैं
दिल दर्द से तब कराहता है
मुहब्बत तो वो एहसास हैं
जो इन ज़ख़्मों पे मरहम लगाता है
रूह को सुकून दिलाता है
डूबे हुए को उबारता है
हारे हुए को जीना सिखाता है
ना की हो जिसने कभी मुहब्बत
वो ही शिकवा करता है
सच्चा आशिक़ तो मुहब्बत से मुहब्बत करता है

By Bishakha Moitra Prajapati

10 Comments on “मुहब्बत

  1. Truly said! Just like bravery can be defined as fearing only fear, romance can be sung as loving love, and not a person.

    Beautiful!

  2. Wow…….this is so beautifully articulated…. 👏🏼👏🏼👏🏼. Looking forward to many more from you

Leave a Comment

Your email address will not be published.

You may use these HTML tags and attributes:

<a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

×

Hello!

Click on our representatives below to chat on WhatsApp or send us an email to ubi.unitedbyink@gmail.com

× How can I help you?