पुस्तक दिवस

पुस्तक दिवस

500
(No Ratings Yet)

📚📓📒📕📖📄📝
अद्भुत अस्त्र-शस्त्र हैं ये।
बिन बहाये,रक्त की एक बूंद भी।
कर सकती हैं, घायल ये।
डुबा-डुबा कर ज़िन्दा रखने का हुनर भी।
बखूबी जानती हैं ये।
निराला है, संसार इनका।
भीतर इनके सारा जगत समाए।
पर,एक कोने में समा जाती हैं ये।
“पुस्तक-दिवस” की हार्दिक शुभकामनाएं।
🙏🙏🌷🌷📝📖

अरूणा शर्मा

Leave a Comment

Your email address will not be published.

You may use these HTML tags and attributes:

<a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

×

Hello!

Click on our representatives below to chat on WhatsApp or send us an email to ubi.unitedbyink@gmail.com

× How can I help you?