Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages

मुस्तफ़ा साबूवाला (UBI जंगल की एक सुबह प्रतियोगिता | प्रशंसा पत्र )

जंगल की वह सुबह याद है, ।
पेट से गूंजती जैसे फरयाद है, ।

किसी ने रुक कर पूछा यह लोटा कैसे ।
घबराते मैने कहा, भला धोता कैसे ।

मिट्टी के अजब फायदे मुझे वो समझने लगा ।
मेरी बरसों की आदत से मुझे उलझाने लगा ।

बातों में उसकी दम था में छोड़ ना सका ।
जीन्स भी नई थी, में बांड तोड़ ना सका ।

मैंने परवरिश मेे बड़ों का मान सीखा था ।
इस माहौल मेे मगर आपना अपमान दिखा था ।

सारी मर्यादा की इमारत मुझे तोड़नी पड़ी ।
उस महाशय की बात अधूरी छोड़नी पड़ी ।

मुझे माफ़ कर देना भगवान इस लाचारी का ।
और आगे से खयाल रखना मेरी त्यारी का ।

0
united ink

United By Ink

Leave a Reply

Your email address will not be published.

×

Hello!

Click on our representatives below to chat on WhatsApp or send us an email to ubi.unitedbyink@gmail.com

× How can I help you?