Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages

अनामिका जोशी (विधा- कविता) (धन्यवाद 2019 | सहभागिता प्रमाण पत्र )

फिर बरस एक और बीत चला,
सौगातें स्वर्णिम लाया था ।
कुछ मीठी और कुछ खट्टी सी,
यादों की पिटारी लाया था ।
आगजनी और हिंसा का ,
कहीं रूप देखने को था मिला ।
मंदिर, रिश्ते, दुष्कर्मों पर ,
कहीं न्याय देखने को था मिला ।
जो मुझसे रखते हैं अनुराग ,
और जो भी रखते हैं विराग।
जाने अनजाने जो सिखा गए ,
एक धन्यवाद तो बनता है ।
मेरे कूप मंडूक से जीवन को,
यू बी आई सा विस्तृत क्षेत्र दिया। भावों से बहती ‘सरिता’ का
एक धन्यवाद तो बनता है ।
दरख़्त-ए-हयात से,
फिर शाख एक झड़ चली
गुजर गया दिसंबर यूँ ,,,
स्वागत है नई जनवरी,,।

0
united ink

United By Ink

Leave a Reply

Your email address will not be published.

×

Hello!

Click on our representatives below to chat on WhatsApp or send us an email to ubi.unitedbyink@gmail.com

× How can I help you?